वृक्षारोपण से हुआ चातुर्मास स्थापना का आगाज

Latest

दिगम्बर जैन सम्प्रदाय के वरिष्ठ संत महामनाचार्य कुशाग्रनन्दी जी महाराज ससंघ का 34 वाँ ऊर्जामय चातुर्मास धर्म नगरी जयपुर के मुहाना मंडी पारस विहार स्थित श्री सहस्त्रफणी पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में होने जा रहा है, इस हेतु मंगल कलश स्थापना समारोह के साथ चातुर्मास का भव्य आगाज हुआ ।

चातुर्मास समिति के मीडिया प्रभारी बाबू लाल जैन ईटून्दा के अनुसार आज स्थानीय मंदिर प्रांगण में महामनाचार्य कुशाग्रनन्दी जी महाराज ससंघ का चातुर्मास कलश स्थापना एवं गुरुपूर्णिमा महोत्सव पर्यावरण के शुद्धिकरण के साथ मनाया गया, प्रातः नित्यनियम पूजन अभिषेक के उपरान्त आचार्य श्री के सानिध्य में वृक्षारोपण हुआ इस अवसर पर 1008 वृक्षों का रोपण हुआ आचार्य श्री ने अपने करकमलों से बच्चों को वृक्ष वितरण किये ।

समिति अध्यक्ष सुभाष गोदिका के अनुसार दोपहर 3 बजे से आचार्य संघ का वर्षायोग 2019 के लिए मंगल कलश स्थापना का कार्यक्रम प्रारम्भ हुआ कार्यक्रम के प्रथम चरण में श्री चेतन जी सामरिया ने जिनेन्द्र भगवान का चित्रनावरण किया, श्री आर सी जैन परिवार द्वारा दीप प्रज्वलित किया गया साथ ही जयकुमार जी विकास जी सौगानी परिवार द्वारा आचार्य श्री के पादप्रक्षालन किये गए इस अवसर पर श्री प्रदीप जी जैन ने आचार्य संघ को शास्त्र भेंट किया।

आचार्य श्री के चातुर्मास का मुख्य कलश स्थापित करने का सौभाग्य श्री पवन कुमार जी पटौदी नगरफोर्ट वालो को मिला, मुख्य कलश के साथ चार अन्य कलश स्थापित किये गए। 

समारोह का द्वितीय सायंकाल गुरुपूर्णिमा का आयोजन हुआ जिसमे जयपुर ओर बाहर से पधारे भक्तो द्वारा रजत द्रव्यों से आचार्य श्री की पूजन कि गई इस अवसर पर महामनाचार्य कुशाग्रनन्दी ने योग के माध्यम से साधना कि शिक्षा देते हुए उपस्थित श्रावको को घ्यान योग करवाया और मोक्षमार्ग में योग के महत्व को समझाया ।

इस अवसर जयपुर शहर के समाज श्रेष्ठि नरेन्द्र जी निखार,  पार्षद जया जैन, नरेश कासलीवाल, विनय सौगानी, मूलचन्द जी पाटनी, राजीव लाखना, जिनेन्द्र गंगवाल, सुरेश बांदीकुई, राजाबाबू गोधा, सहित विभिन्न मंदिरो के अध्यक्ष मंत्री एवं महाराष्ट्र सहित भारत के विभिन्न शहरों से पधारे गुरु भक्त उपस्थित रहे।

चातुर्मास समिति के संयोजक प्रमोद बाकलीवाल के अनुसार कल दिनाँक 17 जुलाई 2019 महामनाचार्य के आठ निर्जला उपवास का पारणा महोत्सव मनाया जाएगा।


Comment






Total No. of Comments: