गुरु बिना जीवन शुरू नहीं

Latest

वरुण पथ मानसरोवर स्थित श्री दिगंबर जैन मंदिर में आज  मुनिराज के सानिध्य में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर अभिषेक, शांतिधारा,

चित्र अनावरण प्रमोद गंगवाल ने, दीप प्रज्जवलन नवीन जी बाकलीवाल, शास्त्र भेंट सुरेश जी कनक लता जैन  बांदीकुई  , पाद प्रक्षालन कृष्णा जी जैन, अष्ठ द्रव्यो से गुरू पूजा ,विनयांजलि व मुनिराज का गुरु पूर्णिमा पर विशेष आशीर्वचन हुआ जिसमें बताया कि गुरु को सागर से बड़ा होता है, पर दोनों में अंतर इतना है,  समुंद्र की गहराई मनुष्य को डुबो देती है पर गुरु की गहराई से मनुष्य तीर जाता है। बाल्यावस्था में मां संभालती है, युवावस्था में महात्मा (गुरु) संभालता है, वृद्धावस्था में परमात्मा संभालता  है। एक मनुष्य को  सफल जीवन के लिए गुरु बनाना जरूरी है मुनि श्री ने बताया गुरु बिना जीवन शुरू नहीं।   

अंत में आरती हीरालाल जी भंवरी जी गंगवाल  ने की ।

बुधवार 17 जुलाई को वीर शासन जयंती पर   विशेष कार्यक्रम रखा जाएगा।गुरुदेव के 14वा चातुर्मास कलश स्थापना रविवार, 21 जुलाई को होगी।

 प्रवक्ता सुनील गंगवाल ने बताया गणाचार्य विराग सागर जी महाराज के परम शिष्य मुनि विश्वास सागर जी महाराज को  फागी में चातुर्मास के लिए श्रीफल भेंट किया। उन्होंने स्वीकृति प्रदान की अब वरुण पथ  जैन मंदिर में   द्वय (दो)    मुनि विश्वास सागर व मुनि विभजन सागर जी मुनिराज का चातुर्मास होगा।


Comment






Total No. of Comments: